खामोशी

किसी की खामोशी दर्द छुपाती है |किसी की खामोशी ख़ुशी दबाती है |किसी की खामोशी नाराज़गी जताती है |किसी की खामोशी गुस्सा पी जाती है |किसी की खामोशी में लफ्ज़ नहीं होते,फिर भी खामोशी बहुत कुछ कह जाती है |