किसी की खामोशी दर्द छुपाती है |
किसी की खामोशी ख़ुशी दबाती है |
किसी की खामोशी नाराज़गी जताती है |
किसी की खामोशी गुस्सा पी जाती है |
किसी की खामोशी में लफ्ज़ नहीं होते,
फिर भी खामोशी बहुत कुछ कह जाती है |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s