डेटिंग एप्प्स की तीन समस्याएँ

डेटिंग एप्प्स का हल्ला पिछले 2 साल में काफी बढ़ गया है हिंदुस्तान में भी। मेरे कई जानने वाले लोग भी इन डेटिंग एप्प्स पर है जिनसे मैंने कई किस्से सुन रखें है इनको लेकर। अपन ये सब एप्प्स से दूर रहे काफी सालों तक, पर कोरोना काल में बहुत समय मिला तोह आ गए … Continue reading डेटिंग एप्प्स की तीन समस्याएँ

मेरा पहला Thomso

Thomso हमारे कॉलेज आईआईटी रुड़की का कल्चरल फेस्ट का नाम है। सरल भाषा में समझाया जाए तोह आईआईटी रुड़की में 3 दिन चलने वाला एनुअल फंक्शन को Thomso कहते है। Thomso में आनंद और हिस्सा लेने देश भर के कॉलेजों से लोग आते हैं। सच बोलूं तोह सभी लोगों से हमें मतलब रहता भी नहीं … Continue reading मेरा पहला Thomso

फ़र्क

मेरा एक मित्र है श्रवण नाम से। करियर के हिसाब से वो मेरे सभी दोस्तों में से सबसे अलग क्षेत्र में काम करता है। श्रवण मेरे मोहल्ले में नगर निगम की तरफ से सफाई कर्मचारी (स्वीपर) का काम करता है।श्रवण और मेरी उम्र लगभग समान ही है। जब हम छोटे थे 12-13 साल के आस-पास … Continue reading फ़र्क

दोस्ती की कीमत

कॉलेज प्लेसमेंट हुआ था अपना पुणे की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में। सैलरी फिगर इतना बड़ा तोह नहीं था पर उस काम और मेरे जैसे इंसान के हिसाब से पर्यापत था। अपन खुश थे। जब कनवोकेशन सेरेमनी के लिए कॉलेज वापस आये तब बढ़िया सेलिब्रेट किया दोस्तों और जूनियर्स के साथ। बेहतरीन माहौल था। 🥳उन्ही माहौल … Continue reading दोस्ती की कीमत

प्रेम पत्र का जवाब – 2

कहानी का भाग-1 यहाँ से पढ़ें- प्रेम पत्र का जवाब मैंने पायल की ओर देख कर कहा,"यार तुमने मेरे बारें में इतनी अच्छी बातें लिखी हैं। मुझे नहीं पता था, की तुम मुझे इतना पसंद करती हो।" फिर मैंने अपने जेब से वो प्रेम पत्र निकाला। पायल की आँखें चमक उठी उसे देख कर।मैंने बड़े … Continue reading प्रेम पत्र का जवाब – 2

प्रेम पत्र का जवाब

बात उस दौर की है जब अपन दसवीं क्लास में पहुँच चुके थे। बचपन से जिस दसवीं बोर्ड के खौफ्फ़ के बारें में सुन रखा था उसका सामना करने वाला साल था ये। मेरे जैसे बच्चों के लिए डरने वाले साल से ज्यादा उत्साह वाला साल था। ऐसा इसलिए क्यूंकि घरवालों ने आईआईटी की एग्जाम … Continue reading प्रेम पत्र का जवाब

अनजान का ज्ञान

बहुत दिन हो गए थे कोई कहानी कोई लिखे हुए। ख्याल बहुत से थे पर उन्हें रूप नहीं दे पा रहा था। सोचा की क्रिएटिव लेखकों की तरह थोड़ा जगह में बदलाव करेंगे तोह शायद कोई कृति को पन्ने पर उतारा जा सके। कुछ फिल्मों में देखा है की हीरो-हीरोइन एक कूल से कैफ़े में … Continue reading अनजान का ज्ञान

नाम बना लिया है

ब्लॉग लिखने का फायदा तोह होता है यार। इसके माध्यम से कई पुराने दोस्तों से अब बात भी होने लगी है। बचपन का एक दोस्त है मेरा रोहित, काफी सालों से बात नहीं हुई है हमारी इसलिए आजकल बस फेसबुक फ्रेंड ही हो रखें हैं। ऐसा कुछ मन-मुटाव नहीं है बस, जीवन के रास्ते अलग … Continue reading नाम बना लिया है

अरेंज मैरिज और बेसिक सवाल

अभी ना अपन उस उम्र में आ गए जब "शादी कर लो" का नारा घर और समाज दोनों में लगने शुरू हो गए है। ये वो ही दौर होता है जब सबको लगता है की आपके सेटल होने से ही आपके जीवन का कल्याण हो सकेगा। कितना कल्याण होगा ये तोह कोई गारंटी नहीं करता … Continue reading अरेंज मैरिज और बेसिक सवाल

मेस का खाना

एक छोटा भाई है हमारा गुड्डू , कॉलेज जाने के लिए एकदम तैयार। पर कोरोना के चक्कर में मुश्किल ही है की उसे कॉलेज जाना पड़े। कल थोड़ा आत्मा चिंतन के मूड में था वो, पूछा उसने की, "भईया कॉलेज ना जाने से जीवन में क्या मिस होने वाला है?" प्लास्टिक कुर्सी पर बैठे, अखभार … Continue reading मेस का खाना