Forgiveness

मिच्छामी दुक्कड़म अर्थात एक दूसरे से क्षमा याचना करना। जैन धर्म के अनुसार पर्युषण पर्व के आखिरी दिन को सभी लोग एक-दूसरे से जाने-अनजाने में हुयी गलतियों के लिये 'मिच्छामी दुक्कड़म' कहकर माफी मांगते हैं। बहुत ही अध्भुत पर्व लगता है ये मुझे। सुना है की क्षमा देने वालों का बड़ा दिल होता है। पर … Continue reading Forgiveness

Patience

जैसे कुदरत में पशुओं और पेड़ों की कुछ प्रजातियां विलुप्त होते जा रही है। ठीक उसी प्रकार धैर्य रखने की कला हम इंसानों में विलुप्त हो रही है। इस सूचना अधिभार वाले ज़मानें में हमारी ध्यान अवधि और धीरज की क्षमता दोनों कम हो रही है। सब्र का फल मीठा होता है, पर आज के … Continue reading Patience

Hope

उम्मीद वो द्विविध शब्द है, जो पूरी होने पर दुनिया जीतने जैसी और पूरी ना होने पर दुनिया ख़तम होने जैसी भावनाएं देता है। आप दुनिया का कोई भी सफल किस्सा उठा लो, उसकी शुरुआत किसी एक उम्मीद से ही हुई थी और आप दुनिया का कोई भी असफल किस्सा भी उठा लो उसका अंत … Continue reading Hope

Identity

अपने समाज, परिवार, मंडली के योग्य बनने के लिए हम सब अपनी पहचान बनाने में लगे हैं। कोई काम से, कोई पैसे से, कोई आवाज़ से, कोई धर्म से अपनी व्यक्तिगत पहचान बनाने का संघर्ष करता रहता है। इस संघर्ष के चक्कर में हम दूसरों की नज़रों में उपयुक्त दिखने के लिए अपने आप को … Continue reading Identity

Self-Harm

सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में एक ऐतिहासिक निर्णय दिया, जिससे आत्महत्या के प्रयास अब एक आपराधिक अपराध नहीं है और उत्तरजीवी को सजा से बाहर रखा जाएगा। अब हमारे आम जीवन में इस निर्णय का कोई सीधा प्रभाव तोह नहीं है फिर ये ऐतिहासिक कैसे हुआ? दरअसल सुप्रीम कोर्ट मानता है की खुद को नुक्सान … Continue reading Self-Harm

Negativity

नकारात्मक सोच हमारे दिमाग में वो पौधा है जिसका बीज भी हम बोते है और उसको बड़ा करने का पानी भी हम ही देते है। निजी ज़िन्दगी में कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती है जिनसे नकारात्मक विचारों को दिमाग में एंट्री मिल जाती है। इस दौरान हम खुद पर अक्सर संदेह, बेकार, हारा या बेवकूफ … Continue reading Negativity

Loss

किसी अपने को खोना, मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा कष्ट है। ऐसे शोक के समय में दर्द, गुस्सा, डर और खेद सब एक साथ महसूस होने लगते हैं। किसी का रोना नहीं रुकता, तोह कोई खो देने के सदमे से बहार नहीं आता। शोक मनाने का कोई तर्रिका सही या गलत नहीं होता। अपनों को … Continue reading Loss

Heartbreak

रॉकस्टार फिल्म का एक बड़ा ही प्रसिद्ध डायलाग है,"टूटे हुए दिल से ही संगीत निकलता है। जब दिल की लगती है ना, टुकड़े-टुकड़े होते है, तब आती है झंकार।" अब इस डायलाग ने तोह टूटे हुए दिल से भी फायदा निकलवा दिया। पर जिनके दिल टूटे है जनाब, वो जानते हैं की शरीर में टूटा हुआ … Continue reading Heartbreak

Insomnia

अनिद्रा एक प्रकार का नींद संबधी विकार है। इसमें व्यक्ति को सोने में असुविधा, नींद की कमी या नींद पूरी नहीं हो पाने की समस्या रहती है। अच्छी नींद ना आने के कारण व्यक्ति चिड़चिड़ा और तनावग्रस्त तोह रहता ही है। इसके साथ मानसिक और शारीरिक बीमारियों को भी शरीर में एंट्री मिल जाती है। … Continue reading Insomnia

Anxiety

चिंता उस साधारण भावना का नाम है जो हमारे रोजमर्रा के जीवन में आती-जाती रहती है। साधारण इसलिए बोल रहा हूँ क्यूंकि चिंता होना हमारे शरीर की तनाव के प्रति स्वाभाविक प्रतिक्रिया होती है। लेकिन ये ही चिंता हमें अक्सर किसी कार्य से पहले या उसे करते समय घबराहट, उत्तेजित, चिड़चिड़ापन इत्यादि जैसे लक्षण दिखाने … Continue reading Anxiety