मेरा पहला Thomso

Thomso हमारे कॉलेज आईआईटी रुड़की का कल्चरल फेस्ट का नाम है। सरल भाषा में समझाया जाए तोह आईआईटी रुड़की में 3 दिन चलने वाला एनुअल फंक्शन को Thomso कहते है। Thomso में आनंद और हिस्सा लेने देश भर के कॉलेजों से लोग आते हैं। सच बोलूं तोह सभी लोगों से हमें मतलब रहता भी नहीं … Continue reading मेरा पहला Thomso

दोस्ती की कीमत

कॉलेज प्लेसमेंट हुआ था अपना पुणे की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में। सैलरी फिगर इतना बड़ा तोह नहीं था पर उस काम और मेरे जैसे इंसान के हिसाब से पर्यापत था। अपन खुश थे। जब कनवोकेशन सेरेमनी के लिए कॉलेज वापस आये तब बढ़िया सेलिब्रेट किया दोस्तों और जूनियर्स के साथ। बेहतरीन माहौल था। 🥳उन्ही माहौल … Continue reading दोस्ती की कीमत

मेस का खाना

एक छोटा भाई है हमारा गुड्डू , कॉलेज जाने के लिए एकदम तैयार। पर कोरोना के चक्कर में मुश्किल ही है की उसे कॉलेज जाना पड़े। कल थोड़ा आत्मा चिंतन के मूड में था वो, पूछा उसने की, "भईया कॉलेज ना जाने से जीवन में क्या मिस होने वाला है?" प्लास्टिक कुर्सी पर बैठे, अखभार … Continue reading मेस का खाना

दास्तान-ऐ-पजामा

जैसा की मैं कई बार बता चुका हूँ की कॉलेज (आईआईटी रुड़की) में अपना भोकाल अप्पार था। घमंड की बात नहीं है, बस ये है की वो भोकाल भी मेहनत से बना था। लोगो से अच्छे रिश्ते बनाना, मदद लेना और करना और उनके साथ व्यवहार रखना, ये सब मुझे पसंद भी था और मैंने … Continue reading दास्तान-ऐ-पजामा